नई पोस्ट करें

Virat Kohli Tweets Babar Azam: विराट कोहली ने बाबर आजम को दिया जवाब, पाकिस्तानी कप्तान ने ट्वीट कर किया था सपोर्ट

2022-10-05 15:47:14 850

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टMalviya Nagar Voting Detail: दिल्ली की मालवीय नगर विधानसभा सीट पर 58.71 प्रतिशत मतदान****** दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मतदान खत्म हो चुका है। राजधानी की मालवीय नगर विधानसभा सीट पर 58.71प्रतिशत वोटिंग दर्ज की गई। मालवीय नगर विधानसभा सीट पर मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच है। इस सीट से भारतीय जनता पार्टी ने सुरेंदर सिंह को प्रत्याशी घोषित किया हुआ है जबकि आम आदमी पार्टी ने मौजूदा विधायक सोमनाथ भारती को मैदान में उतारा है। कांग्रेस पार्टी ने नीतु वर्मा पर दांव खेला है। 2015 के विधानसभा चुनाव में मालवीय नगर विधानसभा सीट से 7 प्रत्याशियों ने चुनाव लड़ा था और 5 प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई थी। 2015 में मालवीय नगर सीट पर कुल 66.55 प्रतिशत मतदान हुआ था और 92730 मतदाताओं ने वोट डाले थे। 2015 में मालवीय नगर सीट पर आम आदमी पार्टी के सोमनाथ भारती ने चुनाव जीता था, उन्हें 51196 वोट मिले थे और उन्होंने भाजपा प्रत्याशी नंदनी शर्मा को हराया था जिन्हें 35299 वोट पड़े थे।

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टबैंक हड़ताल का दूसरा दिन: देश भर में सेवाएं प्रभावित,आज भी अटकेंगे जरूरी काम******बैंक हड़ताल का दूसरा दिन: देश भर में सेवाएं प्रभावित,आज भी अटकेंगे जरूरी कामHighlights सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के लाखों कर्मचारियों ने सरकारी बैंकों के निजीकरण के विरोध में शुक्रवार को अपनी हड़ताल जारी रखी। हड़ताल का यह दूसरा दिन है और इससे देश भर में इन बैंकों का कामकाज प्रभावित हो रहा है। यह हड़ताल अखिल भारतीय बैंक अधिकारी परिसंघ (एआईबीओसी), अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआईबीईए) और राष्ट्रीय बैंक कर्मचारी संगठन (एनओबीडब्ल्यू) सहित नौ बैंक संघों के मंच यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन (यूएफबीयू) ने बुलायी है।बकर्मचारी चालू वित्त वर्ष में दो और सरकारी बैंकों की निजीकरण करने के सरकार के फैसले के खिलाफ हड़ताल कर रहे हैं। दो दिन की इस हड़ताल के कारण बृहस्पतिवार को भी बैंकों की सेवाएं प्रभावित हुई थीं। इन बैंकों के ग्राहकों को बैंको का कामकाज बंद होने की वजह से जमा और निकासी, चेक समाशोधन और ऋण मंजूरी जैसी सेवाएं ठप होने से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। भारतीय स्टेट बैंक सहित सरकारी बैंकों ने ग्राहकों को पहले ही सूचित कर दिया था कि हड़ताल के कारण उनकी शाखाओं में सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं। हालांकि निजी क्षेत्र के बैंकों खासकर एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक जैसे नयी पीढ़ी के निजी बैंकों में कामकाज सामान्य दिनों की तरह जारी रहा।एआईबीईए के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने कहा कि हड़ताल राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका निभाने वाले सरकारी बैंकों के निजीकरण के सरकार के फैसले के खिलाफ हो रही है। एआईबीओसी के महासचिव सौम्य दत्ता ने कहा कि देश भर में लाखों बैंक कर्मचारी दो दिन की हड़ताल में हिस्सा ले रहे हैं। गौरतलब है कि फरवरी में पेश केंद्रीय बजट में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्र की विनिवेश योजना के तहत दो सरकारी बैंकों के निजीकरण की घोषणा की थी।निजीकरण की सुविधा के लिए, सरकार ने बैंकिंग कानून (संशोधन) विधेयक, 2021 को संसद के मौजूदा सत्र के दौरान पेश करने और पारित करने के लिए सूचीबद्ध किया है। सरकार ने इससे पहले 2019 में आईडीबीआई में अपनी अधिकांश हिस्सेदारी एलआईसी को बेचकर बैंक का निजीकरण किया था और साथ ही पिछले चार वर्षों में 14 सरकारी बैंकों का विलय किया है।विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टTaj Mahal Case Explainer: ताजमहल के 22 दरवाजों में आखिर कौन सा राज बंद है?******Highlightsदेश में ताजमहल को लेकर एक नया विवाद खड़ा हो गया है। इसमें स्थित 22 कमरों को खोलने की मांग की जा रही है, जिससे उन दावों की सच्चाई का पता चल सके, जिसमें कहा गया था कि यहां हिन्दू देवी देवताओं की मूर्तियां हो सकती हैं। इलाहाबाद हाई कोर्ट में इस विवाद को लेकर एक याचिका भी दायर हो चुकी है। ये याचिका दावा करती है कि अंग्रेजों के जमाने से बंद इन कमरों में हिन्दू देवी देवताओं की मूर्तियां, प्राचीन शिवलिंग और शिलालेख मौजूद हो सकते हैं। कोर्ट में दायर इस याचिका में ये भी कहा गया है कि आगरा में जिस जगह अभी ताजमहल है, वहां साल 1212 में राजा परमर्दिदेव ने भगवान शिव का मंदिर बनवाया था, जिसे तेजोमहालय या तेजोमहल का नाम दिया गया था लेकिन शाहजहां ने तेजो महालय को तुड़वाकर इसे मकबरा बना दिया। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में अब 12 मई को इस मामले की सुनवाई होगी।किसने दाखिल की याचिकाभाजपा कार्यकर्ता डॉ. रजनीश ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में याचिका दाखिल की है। इस मामले में पहले आज सुनवाई होनी थी, लेकिन वकीलों की हड़ताल की वजह से ऐसा नहीं हो सका। डॉ. रजनीश का कहना है कि याचिका दाखिल करने का एक ही मकसद है कि ये स्पष्ट हो सके कि ये शिव मंदिर है या मकबरा! के बंद दरवाजे खुलने से सारी सच्चाई सामने आ जाएगी। हालांकि जानकार मानते हैं कि ताजमहल के 22 बंद दरवाजों को खोलना बहुत मुश्किल काम है।22 बंद दरवाजों को खोलने में कानूनी अड़चनेंताजमहल (Taj Mahal) एक वैश्विक धरोहर है इसलिए इस मामले में UNESCO (यूनाइडेट नेशंस एजुकेशनल, साइंटिफिक एण्ड कल्चरल ऑरगनाइजेशन) भी नजर रखेगा। ताजमहल में अगर किसी भी तरह का बदलाव होता है, तो पहले UNESCO से बात करनी होगी। ऐसे में ये बात साफ है कि दरवाजों को खोलने के दौरान भी UNESCO की सहमति जरूरी होगी। इसके अलावा दरवाजे खोलने के काम में हाईलेवल एक्सपर्सट्स और बहुत सारा धन भी चाहिए होगा। एक चुनौती ये भी होगी कि जांच के दौरान अगर स्मारक के स्ट्रक्चर में कोई भी समस्या आई या कुछ क्षतिग्रस्त हुआ तो उसे संभालना बहुत मुश्किल होगा।बंद दरवाजों के पीछे क्या हो सकती है वजहताजमहल (Taj Mahal) के 22 बंद दरवाजों के पीछे क्या वजह हो सकती है? इसके बारे में अभी निश्चित रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता है। ये तो दरवाजे खुलने के बाद ही पता लग सकेगा। हालांकि ये बात जरूर है कि भारत में पहले ऐसे कई मंदिर भी रहे हैं, जहां के कुछ हिस्सों को इसलिए बंद कर दिया गया क्योंकि वह डैमेज हो रहे थे और वहां किसी पर्यटक के जाने से उस जगह को या पर्यटक को नुकसान पहुंच सकता था।याचिका में और क्या दावे किए गएयाचिका में कहा गया है कि 1212 AD में राजा परमर्दिदेव ने तेजो महालय बनवाया, जो बाद में जयपुर के राजा मान सिंह को विरासत में मिल गया। उसके बाद इसके अधिकारी राजा जय सिंह हुए। लेकिन शाहजहां ने इस तेजो महालय को तुड़वाया और बाद में मकबरा बना दिया। इस याचिका में यह भी कहा गया है कि मुस्लिम लोग महल शब्द का इस्तेमाल नहीं करते और औरंगजेब के काल में भी कहीं ताजमहल का जिक्र नहीं है।

Virat Kohli Tweets Babar Azam: विराट कोहली ने बाबर आजम को दिया जवाब, पाकिस्तानी कप्तान ने ट्वीट कर किया था सपोर्ट

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टपीएम मोदी का दावा-तृणमूल कांग्रेस के 40 विधायक सम्पर्क में, टीएमसी ने कहा- चुनाव आयोग से करेंगे शिकायत****** प्रधानमंत्री ने सोमवार को दावा किया कि के 40 विधायक उनके सम्पर्क में हैं और के जीतने के बाद अपनी पार्टी छोड़ देंगे। मोदी ने साथ हीतृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी पर भाई-भतीजावाद करने का आरोप लगाया और इस बात पर जोर दिया कि वह अपने भतीजे को पश्चिम बंगाल में राजनीतिक रूप से स्थापित करना चाहती हैं। पीएम मोदी के बयान पर टीएमसी नेता डेरेक ओ'ब्रायन ने हमला बोलते हुए कहा कि एक्सपायरी बाबू पीएम। कोई भी आपके साथ नहीं जाएगा, 1 पार्षद भी नहीं। क्या आप चुनाव प्रचार या हॉर्स ट्रेडिंग कररहे हैं, आपकी समाप्ति की तारीख निकट है। आज, हम हॉर्स ट्रेडिंग मामले में चुनाव आयोग से शिकायत कर रहे हैं।पीएम मोदी ने बनर्जी पर प्रधानमंत्री पद की उनकी महत्वाकांक्षा को लेकर भी निशाना साधा और कहा, ‘‘दीदी, दिल्ली दूर है।’’ मोदी ने श्रीरामपुर में एक चुनावी रैली में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘तृणमूल के 40 विधायक मेरे सम्पर्क में हैं और भाजपा के चुनाव जीत जाने पर आपके सभी विधायक आपको छोड़ देंगे। आपके पैर के नीचे से राजनीतिक जमीन खिसक गई है।’’मोदी ने बनर्जी का अक्सर गुस्सा होने के लिए मखौल उड़ाया क्योंकि वह ‘‘हार महसूस’’ कर रही हैं और कहा कि वह प्रधानमंत्री बनने का सपना भी नहीं देख सकतीं। उन्होंने कहा, ‘‘चंद सीटों के दम पर,‘दीदी’ आप दिल्ली नहीं पहुंच सकतीं। दिल्ली अभी दूर है। दिल्ली जाना केवल एक बहाना है। उनका वास्तविक इरादा अपने भतीजे को राजनीतिक रूप से स्थापित करना है।’’ बनर्जी के भतीजे अभिषेक डायमंडहार्बर से वर्तमान में सांसद हैं और इसी सीट से तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार हैं।मोदी ने ईवीएम की विश्वसनीयता पर सवाल उठाने के लिए विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके प्रतिद्वंद्वी उन्हें बुरा भला कहने से आगे बढ़ गए हैं और अब ईवीएम की आलोचना कर रहे हैं। विपक्षऐसा इसलिए कर रहा है क्योंकि वह आसन्न हार का सामना कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘पहले मोदी को ही बुरा भला कहा जाता था, अब ईवीएम को भी कोसा जा रहा है। विपक्ष ऐसा इसलिए कर रहा है क्योंकि वेआसन्न हार देख रहे हैं।’’ उन्होंने राज्य की सत्ताधारी पार्टी पर चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए कहा कि उसके ‘‘गुंडे’’ मतदाताओं को वोट डालने से रोक रहे हैं।विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टUP Crime: शर्मनाक! इंजेक्शन लगाने के बहाने झोलाछाप डॉक्टर ने 11वीं की छात्रा से किया रेप, मामला दर्ज******Highlights गोरखपुर जिले में खोराबार थाना क्षेत्र के एक गांव में डॉ. का घिनौना काम सामने आया है। पुलिस के मुताबिक एक झोलाछाप डॉ. ने गांव में इलाज कराने गई 11वीं कक्षा की नाबालिग छात्रा के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म किया। खोराबार के थाना प्रभारी एम के पांडेय ने बताया कि छात्रा की मां की लिखित शिकायत पर चांकापुर के कथित झोलाछाप डॉक्टर विनय कुमार के खिलाफ बलात्कार और पॉक्सो(POCSO) अधिनियम(ACT) की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।थाना प्रभारी ने बताया कि डॉक्टर की मेडिकल डिग्री की भी जांच शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है और जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस में दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार 11वीं कक्षा की एक नाबालिग छात्रा गोरखपुर के एक गांव में अपने मामा के घर गई थी। करीब एक माह पहले उसे सीने में दर्द हुआ तो उसकी मां उसे गांव के एक तथाकथित डॉक्टर के पास परामर्श के लिए ले गई। डॉक्टर ने उसे सुबह छह बजे क्लिनिक में इंजेक्शन लगाने के लिए बुलाया। इसकेबाद लड़की अपने चचेरे भाई के साथ क्लिनिक पहुंची।रिपोर्ट के मुताबिकडॉ. ने उसके चचेरे भाई को इंजेक्शन खरीदने के लिए बाजार भेजा और लड़की के साथ बलात्कार किया। शिकायत के मुताबिक चिकित्सक ने उसे इस घटना के बारे में किसी को भी नहीं बताने की धमकी दी थी, लेकिन लड़की ने बाद में अपनी मां को घटना की जानकारी दे दी। इसके बाद मां की लिखित शिकायत पर पुलिस ने दुष्कर्म और पॉक्सो एक्ट की संबंधित धाराओं में आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया और झोलाछाप डॉक्टर की डिग्री की जांच भी शुरू कर दी।विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टराहुल गांधी को अहमदाबाद मेट्रो कोर्ट ने समन जारी किया, अमित शाह पर टिप्पणी का मामला****** कांग्रेस अध्यक्ष को अहमदाबाद मेट्रो कोर्ट ने बीजेपी अध्यक्ष के खिलाफ टिप्पणी के लिए समन जारी किया है। राहुल गांधी ने जबलपुर में अपने चुनावी भाषण में अमित शाह को हत्या का आरोप बताया था। राहुल गांधी की इस टिप्पणी पर बीजेपी की तरफ से कड़ी प्रतिक्रिया जताई गई थी और मामला कोर्ट में पहुंच गया। कोर्ट ने प्रथमदृष्टया इस मामले को राहुल गांधी के खिलाफ केस बनने लायक मानते हुए समन जारी कर दिया है।दरअसल मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के सिहोरा में आयोजित चुनावी सभा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह को 'हत्या का आरोपी' कहा था। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष ने शाह के बेटे जय शाह को भी निशाने पर लिया और उनके लिए 'जादूगर' शब्द का इस्तेमाल किया था।अमित शाह के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले का जिक्र करते हुए राहुल ने कटाक्ष किया, "हत्या के आरोपी अमित शाह..वाह! क्या शान है..क्या आप लोगों ने जय शाह का नाम सुना है? वह जादूगर हैं, 50,000 रुपये को तीन महीने में 80 करोड़ रुपये बना देते हैं और प्रधानमंत्री देश के युवाओं से कहते हैं कि पकौड़े बेचो।"

Virat Kohli Tweets Babar Azam: विराट कोहली ने बाबर आजम को दिया जवाब, पाकिस्तानी कप्तान ने ट्वीट कर किया था सपोर्ट

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टKanpur Double Murder: यूपी के कानपुर में बुजुर्ग दंपति की गला रेतकर हत्या, खून से लथपथ शव बरामद, मचा हड़कंप******Highlightsयूपी के कानपुर में एक बुजुर्ग दंपति की गला रेतकर हत्या का मामला सामने आया है। बर्रा क्षेत्र में मंगलवार को इन बुजुर्ग दंपति के खून से लथपथ शव बरामद किए गए हैं। मृतकों की पहचान मुन्नालाल उत्तम (60) और उनकी पत्नी राज देवी (55) के रूप में हुई है। इन दोनों का गला किसी धारदार हथियार से काटा गया है।घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस आयुक्त विजय सिंह मीणा भी पहुंचे और जांच के लिए फॉरेंसिक टीम बुलाई।अलग-अलग कमरों में मिले दोनों के शवसंयुक्त पुलिस आयुक्त (कानून-व्यवस्था) आनंद प्रकाश तिवारी ने बताया कि दंपति बर्रा-2 इलाके में अपने बेटे अनूप और बेटी कोमल के साथ रहते थे। ऐसा लगता है कि वारदात को अंजाम देने वाले लोग जान-पहचान के ही थे। मुन्नालाल का शव एक कमरे में फर्श पर पाया गया, वहीं उनकी पत्नी का शव दूसरे कमरे में मिला।बेटी ने सबसे पहले देखा शवतिवारी ने बताया कि दंपति की बेटी कोमल ने मंगलवार सुबह खून से लथपथ अपने माता-पिता के शव देख भाई अनूप को जगाया और दोनों ने पुलिस को इसकी सूचना दी। तिवारी के अनुसार, पुलिस ने इस हत्याकांड की जांच शुरू कर दी है और सीसीटीवी कैमरे के फुटेज में एक संदिग्ध व्यक्ति को देखा गया है। सूत्रों का कहना है कि दोनों शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए गए हैं और हत्यारों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है।विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टजम्मू कश्मीर के राज्यपाल रहे मलिक के आरोपों की होगी जांच, रिश्वत की पेशकश के बारे में कही थी बात******Highlightsजम्मू कश्मीर के राज्यपाल रहे सत्यपाल मलिक के रिश्वत की पेशकश वाले आरोपों की अब CBI जांच होगी। जम्मू कश्मीर प्रशासन ने खुद पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कराने की सिफारिश की है।दरअसल, सत्यपाल मलिक ने आरोप लगाया था कि जब वह जम्मू कश्मीर के राज्यपाल थे तब संघ और बड़े औद्योगिक घराने की फाइलें क्लियर करने के बदले में उनको 300 करोड़ रुपए की घूस की पेशकश की गई थी।बीते 17 अक्टूबर 2021 को राजस्थान में एक कार्यक्रम में मलिक ने कहा था, ‘जम्मू कश्मीर में मेरे सामने दो फाइलें आई थीं। सचिवों में से एक ने मुझे बताया कि यदि मैं इन्हें मंजूरी दे देता हूं तो प्रत्येक के लिए मुझे 150 करोड़ रुपये मिल सकते हैं। मैंने यह कहते हुए प्रस्ताव को ठुकरा दिया कि मैं (कश्मीर में) पांच कुर्ता-पजामा लेकर आया था, और बस इन्हीं के साथ चला जाऊंगा।’उन्होंने आगे कहा, ‘लेकिन एहतियात के तौर पर मैंने प्रधानमंत्री से समय लिया और उनसे मिलने गया। मैंने उनसे कहा कि यह फाइल है, इसमें घपला है, इसमें ये शामिल लोग हैं और वे आपका नाम लेते हैं, आप मुझे बताएं कि क्या करना है।’मलिक के अनुसार, ‘अगर इन परियोजनाओं को रद्द नहीं किया जाना है, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा और आप मेरी जगह किसी और को नियुक्त कर सकते हैं, लेकिन अगर मैं रहता हूं तो मैं इन प्रोजेक्ट फाइलों को मंजूरी नहीं दूंगा। मैं प्रधानमंत्री के जवाब की प्रशंसा करता हूं- उन्होंने मुझसे कहा कि भ्रष्टाचार पर किसी समझौते की कोई जरूरत नहीं है।’सत्यपाल मलिक ने यह भी आरोप लगाया था कि इस देश में सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार कश्मीर हैं। उन्होंने कहा कि पूरे देश में 4-5 प्रतिशत कमीशन मांगा जाता है लेकिन कश्मीर में 15 प्रतिशत कमिशन मांगा जाता है। हालांकि, इसके बारे में उन्होंने विस्तार से नहीं बताया था लेकिन इतना जरुर कहा था कि उनके नेतृत्व में जम्मू कश्मीर में कोई भी भ्रष्टाचार का बड़ा मामला सामने नहीं आया।

Virat Kohli Tweets Babar Azam: विराट कोहली ने बाबर आजम को दिया जवाब, पाकिस्तानी कप्तान ने ट्वीट कर किया था सपोर्ट

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टराइज इंडिया ने पढ़ोपढ़ाओ में खरीदी 60 फीसद हिस्सेदारी****** निवेश कंपनी राइज इंडिया ने घर पर ट्यूशन पढ़ाने की सुविधा प्रदान करने वाले पोर्टल पढ़ोपढ़ाओ डॉट काम में 1.5 करोड़ रुपए में 60 फीसद हिस्सेदारी खरीदी है।राइज इंडिया के मुख्य कार्यकारी अजय छंगानी ने एक बयान में कहा, पढ़ोपढ़ाओ भारत में घर पर ट्यूशन मुहैया कराने का बहु-प्रतीक्षित प्रयास है। फिलहाल यह असंगठित क्षेत्र है हालांकि इस घरेलू ट्यूशन उद्योग में बड़ी संभावना है। हमारी कोशिश है कि अगले कुछ दिनों में यह उद्योग संगठित होगा।बयान में कहा गया कि राइज इंडिया ने भविष्य में पांच करोड़ अतिरिक्त निवेश करने की योजना बनाई है। स्टार्टअप कंपनी पढ़ोपढ़ाओ डॉट कॉम की शुरआत 2014 में हुई थी जिससे दिल्ली-राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के 48,000 ट्यूटर पंजीकृत हैं और ये 60,000 छात्रों को पढ़ाते हैं। Educated Illiterates: 1.5 लाख छात्रों के बीच सर्वे से हुआ खुलासा, 80% से ज्यादा इंजीनियर काम करने के काबिल नहीं

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टLIC की पॉलिसी हो गई है लैप्स? कंपनी ने दिया दोबारा चालू करने का मौका, ये है तरीका******यदि आपने भी बीते समय में LIC की पॉलिसी खरीदी है, और प्रीमियम न भरने के कारण पॉलिसी लैप्स हो गई है तो आपके लिए खास मौका है। सरकारी कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने बंद (लैप्स) हो चुकी व्यक्तिगत बीमा पॉलिसियों को फिर से चालू करने का मौका देते हुए एक अभियान शुरू किया है।LICने मंगलवार को जारी बयान में कहा कि ULIP को (यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान) छोड़कर सभी पॉलिसियों को विशेष अभियान के तहत विलंब शुल्क में छूट के साथ फिर से चालू किया जा सकेगा। यह अभियान 17 अगस्त को शुरू होकर 21 अक्टूबर, 2022 तक चलेगा। बयान के अनुसार, यूलिप के अलावा सभी पॉलिसी को पहली प्रीमियम में चूक की तिथि से पांच वर्ष की अवधि के भीतर कुछ शर्तों के साथ फिर से चालू किया जा सकता है।बीमा कंपनी ने कहा कि सूक्ष्म बीमा पॉलिसी के लिए विलंब शुल्क पर 100 प्रतिशत की छूट दी जायेगी, ताकि जोखिम को कवर किया जा सके। यह अभियान उन पॉलिसीधारकों के लाभ के लिए शुरू किया गया है, जो किसी कारण से प्रीमियम का भुगतान करने में सक्षम नहीं थे और उनकी पॉलिसी बंद हो गई थी।एलआईसी के अनुसार, एक लाख रुपये तक के कुल प्रीमियम के लिए विलंब शुल्क में 25 प्रतिशत की रियायत दी जाएगी। छूट की अधिकतम सीमा 2,500 रुपये है। वहीं, एक से तीन लाख रुपये के प्रीमियम के लिए अधिकतम छूट 3,000 रुपये है। इसी तरह, तीन लाख रुपये से अधिक के प्रीमियम पर विलंब शुल्क में अधिकतम 3,500 रुपये की रियायत के साथ 30 प्रतिशत छूट दी जायेगी।विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टपाकिस्तान में आज 'खूनी' रात: इमरान देंगे संडे सरप्राइज, किसी भी वक्त हो सकती है विपक्षी नेताओं की गिरफ्तारी****** रविवार को अविश्वास प्रस्ताव से पहले पाकिस्तान की सियासत में कुछ बहुत बड़ा और खतरनाक होने के आसार नजर आ रहे हैं। प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को साफ कर दिया था कि वो ‘संडे सरप्राइज’ देने जा रहे हैं। उनके इस कथित सरप्राइज की कुछ जानकारी छन-छनकर बाहर आ रही है। रिपोर्ट्स की मानें तो आज देर रात विपक्ष के तमाम नेताओं को गिरफ्तार किया जा सकता है। गिरफ्तारी से पहले इमरान खान सभी विपक्षी नेताओं के खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज करने की तैयारी कर रहे हैं।बता दें कि गिरफ्तारी से पहले इन सभी नेताओं के खिलाफ मुल्क से गद्दारी, यानी देशद्रोह का केस दर्ज किया जाएगा। इसके लिए सीक्रेट मीटिंग्स की जा चुकी हैं। इन नेताओं पर एक धारा मुल्क के खिलाफ विदेशी साजिश में शामिल होने की लगाई जाएगी। इसका अधिकार सरकार के पास है। वहीं, अविश्वास प्रस्ताव से पहले इमरान खान ने आज पाकिस्तान की जनता को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि में सांसदों की निलामी हो रही है। शहबाज शरीफ आएगा तो अमेरिका की वफाफादी करेगा। उन्होंने कहा कि विपक्ष कल जीता तो अमेरिका जीत जाएगा।वहीं, आपको बता दें कि इमरान खान भले ही कह रहे हैं कि आखिरी बॉल तक वो खेलेंगे लेकिन सच्चाई वो भी जानते हैं और दुनिया भी नियाजी की हकीकत से वाकिफ है क्योंकि इमरान खान नंबर गेम हार चुके हैं और जिस बाजवा ने उन्हें पीएम बनाया था अब उसी बाजवा ने उनके विदाई की स्क्रिप्ट लिख दी है।अब ये इमरान खान को तय करना है कि वो गद्दी कैसे छोड़ते हैं। विक्टिम बनकर रुखसत होना चाहते हैं या फिर वोटिंग में शिकस्त खाकर शहीद होना चाहते हैं क्योंकि जिस तरह से आज बाजवा का अमेरिका और रुस को लेकर स्टेटमेंट आया है उससे ये साफ हो गया है कि बाजवा और इमरान की लाइन बिलकुल अलाहदा है और जब पाकिस्तान में आर्मी की लाइन सरकार से अलग हो जाती है तो वो सरकार नहीं चल पाती है और आज यही संकेत बाजवा की तरफ से आ गया।जिस चिट्टी को लेकर इमरान ने ट्रंप कार्ड चला था और अमेरिका पर सरकार गिराने की साजिश के आरोप लगाए थे आज बाजवा उसी अमेरिका का गुणगान करते नजर आए और यूक्रेन-रूस जंग पर रूस को घेरते नजर आए। बाजवा की लाइन इमरान की लाइन से बिलकुल अलग है इसीलिए संकेत साफ है कि इमरान की कुर्सी तो जाएगी ही। इतना ही नहीं इमरान पर चिट्ठी सार्वजनिक करने के आरोप में ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट का मुकदमा भी चल सकता है और जेल भी जाना पड़ सकता है।बता दें कि नेशनल असेंबली में रविवार को पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ़ (पीटीआई) के सांसद भी मतदान करेंगे। बता दें कि इसके पहले पीटीआई ने कहा था कि उसके सांसद अविश्वास प्रसातव के दौरान वोटिंग में हिस्सा नहीं लेंगे।

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टगिरिराज सिंह बोले- समान नागरिक संहिता समय की मांग, जानिए ‘‘हिंदुओं के उत्पीड़न’’ पर क्या कहा?******Highlights केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने समान नागरिक संहिता लाने की दिशा में कदम उठाने के लिए उत्तराखंड सरकार की सराहना करते हुए शनिवार को कहा कि देश को शरिया जैसे धार्मिक कानूनों के आधार पर नहीं चलाया जा सकता। फायरब्रांड भाजपा नेता ने अनुच्छेद-370 को निरस्त किए जाने के संदर्भ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ऐसी परिस्थितियों को जन्म देने के लिए धन्यवाद दिया, जिसके तहत कश्मीर से कन्याकुमारी तक देश का कोई भी नागरिक अपनी पसंद के स्थान पर बस सकता है। सिंह ने कहा, “अब उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भी बहुत अच्छा कदम उठाया है। पूरे देश में कानून की एकरूपता होनी चाहिए।” ने भाजपा शासित पहाड़ी राज्य में एक समिति के गठन का जिक्र करते हुए कहा कि सिफारिशों के आधार पर एक समान नागरिक संहिता पेश की जा सकती है। बिहार में बेगूसराय लोकसभा सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले केंद्रीय मंत्री ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में ‘‘हिंदुओं के उत्पीड़न’’ के आरोप को दोहराया। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जदयू के हालिया विरोध पर नाराजगी जताई, जिसके कार्यकर्ताओं ने कई स्थानों पर उनके पुतले जलाए थे।सिंह ने कहा, ‘‘ऐसे कृत्य राजग के सदस्यों द्वारा किए गए। मैं हालांकि यह कहना चाहूंगा कि मैं हर कीमत पर हिंदुओं के अधिकारों के लिए लड़ूंगा। अगर वोट बैंक की राजनीति के दबाव में प्रशासन लीपापोती का काम करता रहेगा तो मेरे निर्वाचन क्षेत्र के हिंदू कहां जाएंगे।” पिछले हफ्ते बेगूसराय में कुछ हिंसक घटनाएं हुई थीं, जिन्हें प्रशासन ने दो समूहों के बीच झड़प करार दिया था और कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था।मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा अस्वीकार किए गए जनसंख्या नियंत्रण कानून के प्रबल समर्थक रहे सिंह ने उस विचार पर नाराजगी जताई कि इस तरह के कदम से रूढ़िवादी मुसलमानों के कड़े विरोध का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि ऐसे कानून की जरूरत इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए है कि हमारी जनसंख्या का घनत्व पहले से ही उससे अधिक है, जितना हम संभाल सकते हैं।सिंह ने कहा, “यह कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है। यह एक सामाजिक मुद्दा है। देशभर के राज्यों और जिलों में शरिया जैसे धार्मिक कानूनों को पूरी तरह से नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।” उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘‘अस्सी बनाम बीस’’ के नारे के बारे में सिंह ने कहा, ‘‘योगी गलत नहीं थे। बीस से उनका मतलब उन लोगों से था, जिन्हें राष्ट्रवाद और विकास के प्रति उनकी सरकार की प्रतिबद्धता से समस्या थी। अस्सी उनके लिए खड़े थे, जो उस पर विश्वास करते थे। कोई आश्चर्य नहीं, वह विजयी हुए।’’ इस नारे को हिंदू मतदाताओं के ध्रुवीकरण की एक कोशिश के तौर पर देखा गया था।2024 के लोकसभा चुनाव के परिपक्ष्य में ‘‘अस्सी बनाम बीस’’ समीकरण की संभावनाओं के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा, “यह नब्बे बनाम दस भी हो सकता है। एक बात निश्चित है, समय बीतने के साथ प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व पर लोगों का विश्वास मजबूत होता जा रहा है।”विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टराज्यसभा की 11 सीटों पर चुनाव कार्यक्रम की घोषणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में से चुने जाएंगे 11 नए सांसद****** केंद्रीय चुनाव आयोग ने 25 नवंबर को खाली हो रही राज्यसभा की 11 सीटों के लिए चुनाव कार्यक्रम की घोषणा कर दी है। उत्तर प्रदेश की 10 और उत्तराखंड की 1 राज्यसभा सीट 25 नवंबर को खाली हो रही है और उससे पहले इन 11 सीटों पर नए सांसदों का चुनाव होगा। चुनाव आयोग ने जो चुनाव कार्यक्रम घोषित किया है उसके तहत 20 अक्तूबर को अधिसूचना जारी होगी, 27 अक्तूबर तक नामांकन दाखिल किया जा सकेगा, 28 अक्तूबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी, 2 नवंबर तक नामांकन वापस लिए जा सकेंगे, 9 नवंबर को मतदान होगा और उसी दिन नतीजे भी घोषित होंगे। उत्तर प्रदेश से रामगोपाल यादव, चंद्रपाल यादव, पीएल पुनिया, नीरज शेखर, अरुण सिंह, जावेल अली खान, हरदीप सिंह पुरी, रवी प्रकाश वर्मा, राजाराम और वीर सिंह का कार्यकाल खत्म हो रहा है जबकि उत्तराखंड से राज बब्बर का कार्यकाल खत्म हो रहा है। इन दोनो राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की सरकारें और विधायकों का संख्याबल भी पार्टी के पास अच्छा खासा है, ऐसे में पूरी संभावना है कि भाजपा की आने वाले दिनों में राज्यसभा के अंदर भारतीय जनता पार्टी का संख्याबल बढ़ने वाला है।

विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टमध्य प्रदेश में कोरोना के 453 नए मामले, मरीजों के फेफड़ों और पेट तक पहुंचा ब्लैक फंगस******मध्य प्रदेश में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण से 36 और व्यक्तियों की मौत हुई है। प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 8,441 हो गयी है। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी के 453 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 7,86,755 तक पहुंच गयी। मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि प्रदेश के 52 जिलों में से 10 जिलों सिंगरौली, दतिया, टीकमगढ़, मंडला, गुना, हरदा, डिण्डोरी, श्योपुर, अलीराजपुर एवं भिण्ड में पिछले 24 घंटों के दौरान संक्रमण का एक भी नया मामला नहीं आया है।उन्होंने कहा कि के 144 नए मामले इंदौर में आये, जबकि भोपाल और जबलपुर में क्रमश: 104 एवं 39 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में कुल 7,86,755 संक्रमितों में से अब तक 7,71,243 मरीज स्वस्थ हो गये हैं और 7,071 मरीजों का इलाज चल रहा है। उन्होंने कहा कि बुधवार को कोविड-19 के 1,329 रोगी स्वस्थ हुए हैं।वहीं इंदौर महामारी का प्रकोप घटने के बाद ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) चिकित्सा जगत के सामने नयी चुनौती के रूप में उभर रहा है। रोगियों की नाक, मुंह, आंखों और मस्तिष्क के बाद फेफड़ों और पेट में भी ब्लैक फंगस संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। परमार्थिक क्षेत्र के चोइथराम अस्पताल में पेट रोग विभाग के प्रमुख डॉ. अजय जैन ने बताया, "पिछले एक हफ्ते के दौरान हमें ऐसे दो मरीज मिले जिनके पेट में ब्लैक फंगस संक्रमण की पुष्टि हुई है। ये मरीज महीने भर के अंतराल में कोविड-19 से ठीक हुए हैं।"उन्होंने बताया, "इनमें 62 वर्षीय पुरुष शामिल था जो हमारे पास आंतों की रुकावट और शौच न होने की शिकायत लेकर आया था। हमने जब उसका ऑपरेशन किया तो पाया कि उसकी छोटी आंत का तीन फीट लम्बा हिस्सा सड़ चुका था। इस हिस्से को काटकर बाहर निकालने के बाद जांच की गई जिसमें ब्लैक फंगस के संक्रमण की पुष्टि हुई।" जैन ने बताया कि तमाम कोशिशों के बावजूद मरीज की जान नहीं बचाई जा सकी।पेट रोग विशेषज्ञ ने बताया कि दूसरे मामले में 44 वर्षीय पुरुष मल के साथ लगातार खून आने की शिकायत के साथ अस्पताल पहुंचा था। उन्होंने बताया, "जांच में इस मरीज की छोटी आंत के पहले हिस्से में काले रंग का बड़ा छाला दिखा और आंत की दीवार गली नजर आई। ऑपरेशन के दौरान पता चला कि ब्लैक फंगस मरीज के अग्नाशय में भी प्रवेश कर चुका है।" उन्होंने बताया कि सर्जरी के बाद इस मरीज के पेट से ब्लैक फंगस संक्रमण हटाया गया और उसकी हालत फिलहाल ठीक है।इस बीच, श्री अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) के छाती रोग विभाग के प्रमुख डॉ. रवि डोसी ने बताया, "हमारे अस्पताल के दो मरीजों के पेट में ब्लैक फंगस संक्रमण मिला है, जबकि आठ अन्य रोगियों के फेफड़ों में यह संक्रमण पाया गया है। कोविड-19 से उबरे मरीजों में यह नयी समस्या सामने आ रही है।" अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल स्थानीय अस्पतालों में ब्लैक फंगस के 500 से ज्यादा मरीज भर्ती हैं। इनमें इंदौर के अलावा राज्य के अन्य जिलों के मरीज भी शामिल हैं।विराटकोहलीनेबाबरआजमकोदियाजवाबपाकिस्तानीकप्ताननेट्वीटकरकियाथासपोर्टभुगतान कंपनी Cashfree ने जुटाये 260 करोड़ रुपये, Druva भारत में कर्मचारियों की संख्या बढ़ाएगी******Cashfree raises USD 35 mn, Druva to expand India headcount by 15-20 per centबेंगलुरु। बेंगलुरु की वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनी कैशफ्री ने श्रृंखला बी दौर के तहत 3.53 करोड़ डॉलर (करीब 260 करोड़ रुपये) का वित्तपोषण जुटाया है। कैशफ्री ने मंगलवार को बयान में कहा कि वित्तपोषण के इस दौर की अगुवाई एपिस ग्रोथ फंड-दो ने की। इसमें मौजूदा निवेशक वाई कॉम्बिनेटर ने भी भाग लिया। और बैंकिंग प्रौद्योगिकी कंपनी है। यह कंपनियों को ऑनलाइन भुगतान जुटाने तथा भुगतान करने में मदद करती है। कंपनी का गठन आकाश सिन्हा और रीजू दत्ता ने 2015 में किया था।क्लाउड डेटा संरक्षण एवं प्रबंधन समाधान कंपनी द्रुवा अपने पुणे केंद्र में 100 और कर्मचारियों की नियुक्ति की योजना बना रही है। कंपनी आगामी वर्षों में क्लाउड डेटा संरक्षण प्रौद्योगिकी की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए और कर्मचारियों की नियुक्ति की तैयारी कर रही है। वैश्विक स्तर पर कंपनी के कर्मचारियों की संख्या 700 है। कंपनी के पुणे केंद्र में अभी 500 कर्मचारी हैं।द्रुवा के सह-संस्थापक एवं मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) मिलिंद बोराते ने कहा कि अपनी पहुंच और स्वामित्व की लागत में बचत की वजह से आज पब्लिक क्लाउड 2020 की एक प्रमुख प्रौद्योगिकी बन गई है। उन्होंने कहा कि हम अपने उपक्रम ग्राहकों को आज की चुनौतियों से निपटने में मदद कर रहे हैं। चाहे यह चुनौती घर से काम की हो या रैन्समवेयर के हमले की। कंपनी ने कहा है कि वह अगले कुछ माह के दौरान अपने पुणे केंद्र में कर्मचारियों की संख्या 15 से 20 प्रतिशत तक बढ़ाएगी।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-10-05 14:57
उद्धरण 1 इमारत
PM Modi Germany Visit: G-7 शिखर सम्मलेन में हिस्सा लेने जर्मनी पहुंचे पीएम मोदी, एयरपोर्ट पर किया गया भव्य स्वागत******Highlights G-7 शिखर सम्मलेन की बैठक में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जर्मनी पहुंच गए हैं। जहां म्यूनिख में प्रवासी भारतियों के द्वारा एयरपोर्ट पर उनका गर्मजोशी से स्वागत किया। पिछले दो महीनों पीएम मोदी की यह दूसरी यात्रा है। इससे पहले पीएम 2 मई को जर्मनी यात्रा पर गए थे। जहां दोनों देशों के बीच कई विषयों को लेकर बैठक हुई थी। जर्मनी में शिखर सम्मलेन की बैठक में हिस्सा लेने के बाद वह संयुक्त अरब अमीरात की यात्रा पर भी जाएंगे।जर्मनी में आयोजित G-7 शिखर सम्मलेन में पीएम मोदी दो सत्रों को संबोधित भी कर सकते हैं। खबर है कि वे जिन सत्रों को संबोधित करेंगे उनमें एक सत्र पर्यावरण, उर्जा और जलवायु से संबंधित होगा। वहीं दूसरा सत्र खाद्य सुरक्षा और लैंगिक सामनता को लेकर होगा। वहीं इस सम्मलेन के दौरान ही वह कई राष्ट्रों के प्रमुखों से साथ बैठकें भी करेंगे।आधिकारिक सूत्रों ने अनुसार जर्मनी और संयुक्त अरब अमीरात में लगभग 60 घंटे के प्रवास के दौरान प्रधानमंत्री दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के समूह जी 7 की बैठक में भाग लेने के अलावा कई द्विपक्षीय बैठकें करेंगे। विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा ने शुक्रवार को कहा था कि मोदी शिखर सम्मेलन से इतर जी-7 और अतिथि देशों के नेताओं साथ द्विपक्षीय मुलाकात और चर्चा करेंगे।जी7 शिखर सम्मेलन के दौरान यूक्रेन संघर्ष, हिन्द प्रशांत क्षेत्र की स्थिति, खाद्य एवं ऊर्जा सुरक्षा, जलवायु सहित महत्वपूर्ण वैश्विक चुनौतियों पर चर्चा होगी। विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने शुक्रवार को संवाददाताओं को यह जानकारी दी। विदेश सचिव विनय क्वात्रा ने कहा कि जी-7 शिखर सम्मेलन में विशेष आमंत्रित के रूप में भारत की भागीदारी वैश्विक चुनौतियों के समाधान खोजने में नई दिल्ली की महत्वपूर्ण भूमिका के लिए विश्व समुदाय द्वारा जुड़े महत्व को दर्शाती है।
2022-10-05 14:12
उद्धरण 2 इमारत
मध्य प्रदेश में कोरोना के 453 नए मामले, मरीजों के फेफड़ों और पेट तक पहुंचा ब्लैक फंगस******मध्य प्रदेश में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण से 36 और व्यक्तियों की मौत हुई है। प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 8,441 हो गयी है। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी के 453 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 7,86,755 तक पहुंच गयी। मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि प्रदेश के 52 जिलों में से 10 जिलों सिंगरौली, दतिया, टीकमगढ़, मंडला, गुना, हरदा, डिण्डोरी, श्योपुर, अलीराजपुर एवं भिण्ड में पिछले 24 घंटों के दौरान संक्रमण का एक भी नया मामला नहीं आया है।उन्होंने कहा कि के 144 नए मामले इंदौर में आये, जबकि भोपाल और जबलपुर में क्रमश: 104 एवं 39 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में कुल 7,86,755 संक्रमितों में से अब तक 7,71,243 मरीज स्वस्थ हो गये हैं और 7,071 मरीजों का इलाज चल रहा है। उन्होंने कहा कि बुधवार को कोविड-19 के 1,329 रोगी स्वस्थ हुए हैं।वहीं इंदौर महामारी का प्रकोप घटने के बाद ब्लैक फंगस (म्यूकरमाइकोसिस) चिकित्सा जगत के सामने नयी चुनौती के रूप में उभर रहा है। रोगियों की नाक, मुंह, आंखों और मस्तिष्क के बाद फेफड़ों और पेट में भी ब्लैक फंगस संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। परमार्थिक क्षेत्र के चोइथराम अस्पताल में पेट रोग विभाग के प्रमुख डॉ. अजय जैन ने बताया, "पिछले एक हफ्ते के दौरान हमें ऐसे दो मरीज मिले जिनके पेट में ब्लैक फंगस संक्रमण की पुष्टि हुई है। ये मरीज महीने भर के अंतराल में कोविड-19 से ठीक हुए हैं।"उन्होंने बताया, "इनमें 62 वर्षीय पुरुष शामिल था जो हमारे पास आंतों की रुकावट और शौच न होने की शिकायत लेकर आया था। हमने जब उसका ऑपरेशन किया तो पाया कि उसकी छोटी आंत का तीन फीट लम्बा हिस्सा सड़ चुका था। इस हिस्से को काटकर बाहर निकालने के बाद जांच की गई जिसमें ब्लैक फंगस के संक्रमण की पुष्टि हुई।" जैन ने बताया कि तमाम कोशिशों के बावजूद मरीज की जान नहीं बचाई जा सकी।पेट रोग विशेषज्ञ ने बताया कि दूसरे मामले में 44 वर्षीय पुरुष मल के साथ लगातार खून आने की शिकायत के साथ अस्पताल पहुंचा था। उन्होंने बताया, "जांच में इस मरीज की छोटी आंत के पहले हिस्से में काले रंग का बड़ा छाला दिखा और आंत की दीवार गली नजर आई। ऑपरेशन के दौरान पता चला कि ब्लैक फंगस मरीज के अग्नाशय में भी प्रवेश कर चुका है।" उन्होंने बताया कि सर्जरी के बाद इस मरीज के पेट से ब्लैक फंगस संक्रमण हटाया गया और उसकी हालत फिलहाल ठीक है।इस बीच, श्री अरबिंदो इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (सैम्स) के छाती रोग विभाग के प्रमुख डॉ. रवि डोसी ने बताया, "हमारे अस्पताल के दो मरीजों के पेट में ब्लैक फंगस संक्रमण मिला है, जबकि आठ अन्य रोगियों के फेफड़ों में यह संक्रमण पाया गया है। कोविड-19 से उबरे मरीजों में यह नयी समस्या सामने आ रही है।" अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल स्थानीय अस्पतालों में ब्लैक फंगस के 500 से ज्यादा मरीज भर्ती हैं। इनमें इंदौर के अलावा राज्य के अन्य जिलों के मरीज भी शामिल हैं।
2022-10-05 13:57
उद्धरण 3 इमारत
उपभोक्ता वस्तुओं के पैकेटों पर जरूरी जानकारी बड़े अक्षरों में छापना जरूरी, एक अप्रैल से लागू होगा नियम****** कंपनियों को अब एक अप्रैल से उपभोक्ता वस्तुओं के पैकेटों पर मूल्य, समाप्ति तिथि और उसमें उपयोग सामग्री जैसी जरूरी जानकारियां बड़े-बड़े अक्षरों में प्रकाशित करनी होगी। केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय का इस आशय का आदेश एक अप्रैल 2017 से लागू हो जाएगा।उपभोक्ता मामलों के विभाग ने पैकेटबंद उपभोक्ता वस्तुओं के पैकेजिंग संबंधी नियम 2011 के तहत पैकेट पर जरूरी जानकारी स्पष्ट तौर पर प्रकाशित करने के लिए पिछले साल आदेश दिया था। इसे लागू करने से पहले सरकार ने कंपनियों को पुराना स्टॉक निकालने के लिए छह महीने का वक्‍त दिया था।उपभोक्ता मामलों के विभाग के निदेशक बीएन दीक्षित ने बताया कि सरकार ने 31 मार्च 2017 की इस समय-सीमा को आगे नहीं बढ़ाया है, इसलिए आदेश एक अप्रैल से लागू हो जाएगा। इस आदेश के दायरे में उपभोक्ता वस्तुओं के पैकेट पर प्रकाशित होने वाला बारकोड भी शामिल है।आदेश के मुताबिक कंपनियों को 200 से 400 ग्राम या मिलीलीटर मात्रा की उपभोक्ता वस्तुओं के पैकेट पर जरूरी जानकारी 2 से 4 मिलीमीटर आकार के फॉन्‍ट में देनी होगी, इसी प्रकार 500 ग्राम या मिलीलीटर मात्रा वाली वस्तुओंके पैकेट पर 8 मिलीमीटर फॉन्‍ट का आकार रखना होगा।मौजूदा व्यवस्था में 200 ग्राम या मिलीलीटर मात्रा वाली उपभोक्ता वस्तु के पैकेट पर विनिर्माण तिथि, समाप्ति तिथि, विनिर्माण में प्रयुक्त सामग्री, कीमत और कंपनी का नाम एवं पता आदि जानकारियां कम से कम एक मिलीमीटर फॉन्‍ट के आकार में प्रकाशित करनी होती है। जबकि अमेरिका में इतनी मात्रा के पैकेट पर दी गई जानकारी के फॉन्‍ट का आकार 1.6 एमएम होता है।सरकार ने अब इस बारे में अमेरिकी मानकों के अनुरूप यह बदलाव किया है। पैकेटबंद खाद्य वस्तुओं की पैकेजिंग की अधिकतम सीमा 25 किग्रा या लीटर से बढ़ाकर 50 किग्रा या लीटर करने पर विचार किया जा रहा है।
वापसी